प्रज्ञा पुराण की कथा की रोचक शैैली

लखनऊ, हाता हृदय नारायन मर्दन खेडा में चल रही पावन प्रज्ञा पुराण की कथा की रोचक शैैली को  वर्षा के कारण बढती सर्दी भी कम न कर सकी । आज दूसरे दिन की कथा में कथा व्यास श्री कैलाश नारायण तिवारी जी ने परिवारों में बढ रहे असंतोष , आक्रोष , असहिष्णुता ,व अकारण रोष को भारतीय  संस्कार परंम्परा का लुप्त हो जाना बताया ।भारतीय जीवन पद्यति का आधार ही संस्कार है । आचार्य श्री राम श्रीमान रचित  पावन प्रज्ञा पुरान की कथा कें परिवार खण्ड में संस्कारों पर बडा बल दिया गया है । संस्कार अनगढ़ को सुघड़ बनाते है ।बा्ल्यावस्था  में बालक के बारह वर्ष की अवस्था तक बारह में से आठ  संस्कार हो जाते हैं जिससे जीवन में भटकाव न आने पाये । यही संस्कार जीवन को श्रेष्ठ से श्रेेष्ठतम बनाते हैं ।


टिप्पणियाँ
Popular posts
वीरगति को प्राप्त पुलिसकर्मियों को पैदल मार्च पास कर श्रद्धांजलि
चित्र
डॉ समरदीप पांडेय ने किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष बालमुकुंद शुक्ला का माल्यार्पण कर अंग वस्त्र पहनाकर स्वागत किया
चित्र
जिलाधिकारी द्वारा राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यकम सूचकांको में सुधार लाने हेतु निर्देश
चित्र
आयुक्त खाद्य सुरक्षा एवं औषधिक प्रशासन ने कोडीनयुक्त कफ सिरप का दुरूपयोग रोकने एवं अवैध बिक्री पर नियंत्रण किये जाने के निर्देश दिये
चित्र
जूही मंडल के नवनिर्वाचित मंडल अध्यक्ष को अंग वस्त्र पहनाकर माल्यार्पण कर बधाई देते किसान मोर्चा के पदाधिकारी
चित्र