जीवन का प्रारम्भ चाहे मूढ़ता से हो पर समाप्ति ज्ञान प्राप्ति अर्थात माँ सिद्धिदात्री से हो

लखनऊ, मंगलवार 04अक्टूबर 2022 आश्विन मास शुक्ल पक्ष नवमी, शरद ऋतु (शारदीय नवरात्र) २०७९ राक्षस नाम संवत्सर। नवरात्र का नवम दिवस सिद्धि प्रदान करने वाली माँ सिद्धिदात्री को समर्पित है। सिद्धि का अर्थ भौतिक वैभव नहीं अपितु आध्यात्मिक वैभव प्राप्त करना है।

जो प्रभु की सुधि दिलाए वही सिद्धि है। जो प्रभु का विस्मरण करा दे वह संपत्ति किसी काम की नहीं। संपत्ति बाहर का सुख तो प्रदान करती है पर भीतर की तृप्ति प्रदान नहीं कराती। 

नौ दिन के ये व्रत, अनुष्ठान व्यक्ति को शारीरिक और आत्मिक रूप से शुद्ध करते हैं। जिसका जीवन शुद्ध है वही बुद्ध है और वही सच्ची सिद्धि को प्राप्त कर पाता है। शैल (पत्थर) पुत्री अर्थात जड़त्व से प्रारम्भ होने वाला यह पर्व सिद्धिका पर जाकर सम्पन्न होता है। जीवन का प्रारम्भ चाहे मूढ़ता से हो कोई बात नहीं पर समाप्ति सिद्धि (ज्ञान प्राप्ति) से हो, यही जीवन की वास्तविक उन्नति है। माँ दुर्गा भवानी से प्रार्थना करते हैं कि हमें गोविन्द चरणों में प्रीति हो, ऐसी सिद्धि प्रदान करें। विश्व मंगल एवं विश्व कल्याण के साथ-साथ वर्तमान समय में गौवंश के प्राणों पर आए संकट से समस्त गौवंश की रक्षा की भी माँ दुर्गा के श्रीचरणों में प्रार्थना करते हैं।

टिप्पणियाँ
Popular posts
वीरगति को प्राप्त पुलिसकर्मियों को पैदल मार्च पास कर श्रद्धांजलि
चित्र
डॉ समरदीप पांडेय ने किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष बालमुकुंद शुक्ला का माल्यार्पण कर अंग वस्त्र पहनाकर स्वागत किया
चित्र
जिलाधिकारी द्वारा राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यकम सूचकांको में सुधार लाने हेतु निर्देश
चित्र
आयुक्त खाद्य सुरक्षा एवं औषधिक प्रशासन ने कोडीनयुक्त कफ सिरप का दुरूपयोग रोकने एवं अवैध बिक्री पर नियंत्रण किये जाने के निर्देश दिये
चित्र
जूही मंडल के नवनिर्वाचित मंडल अध्यक्ष को अंग वस्त्र पहनाकर माल्यार्पण कर बधाई देते किसान मोर्चा के पदाधिकारी
चित्र