बीएचयू की तरह ही कायस्थ पाठशाला की ख्याति को भी आगे बढ़ायें कायस्थ समाज : खरे

कानपुर नगर। शनिवार 16दिसंबर 2023 (सूत्र) मार्गशीर्ष मास शुक्ल पक्ष चतुर्थी, शरद ऋतु २०८० नल नाम संवत्सर। कायस्थ संघ अंतर्राष्ट्रीय के अध्यक्ष दिनेश खरे ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि संस्था से लगभग 6.5 लाख सदस्य जुड़े हैं, जिसमें से 7654 सदस्य सिर्फ प्रयागराज से हैं। इनमें से लगभग तीन हजार सदस्य कायस्थ पाठशाला के न्यासी हैं। 
मैं उन सभी सदस्यों से अपील करता हूं कि समाज की एकता व परस्पर सहयोग की भावना से कायस्थ पाठशाला चुनाव में स्वेच्छा से मतदान करें। साथ ही प्रयागराज में होने वाले कायस्थ पाठशाला चुनाव की शांतिपूर्ण, निष्पक्ष मतदान से अपना अमूल्य सहयोग दें। 
मुंशी कालीप्रसाद कुल भाष्कर के सपनों को साकार करने के लिए हम सबको एक मंच पर आना होगा। आज जिस प्रकार बीएचयू विश्वविख्यात है उसी तरह हम सबको कायस्थ पाठशाला को आगे बढ़ाना है।
श्री खरे ने कहा कि मैं 32 वर्षों से कायस्थ पाठशाला का न्यासी हूं और सदैव बिना सदभाव के स्वतंत्र रूप से मतदान करता आ रहा हूं। इस चुनाव में पूर्व मंत्री, विधायक, जज, प्रशासनिक अधिकारी एवं संभ्रांत लोग मतदान करते हैं । उन्होंने जिला प्रशासन से अनुरोध किया कि वह अपना सहयोग दे।
प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए न्यास के उपाध्यक्ष अजय कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि संस्था का उद्देश्य संपूर्ण विश्व के चित्रगुप्त वंशजों को एक सूत्र में बांधकर सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक स्तर को ऊंचा उठाना है। इसके लिए संस्था सदैव सभी चित्रगुप्त समाज को एकजुट करने का प्रयास करती है। प्रदेश अध्यक्ष राकेश श्रीवास्तव ने कहा कि समस्त सदस्यों से अपील है कि वे आपसी समन्वय स्थापित करते हुए स्वेच्छा से मतदान करें। 

टिप्पणियाँ
Popular posts
अवैध कब्जा करने वालों को चिन्हित करते हुए उनके खिलाफ एंटी भू माफिया, गैंगस्टर आदि धाराओं में कठोरतम कार्यवाही के निर्देश
चित्र
सभी मतदेय स्थलों में छाया, शौचालय, पेयजल व्यवस्था एवं बुजुर्ग, दिव्यांग मतदाओं हेतु रैम्प आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए - जिलाधिकारी
चित्र
जनपद में राजस्व व पुलिस विभाग की संयुक्त टीमों का गठन कर चकमार्गों, तालाबों पर अवैध कब्जों को हटाया जाये - केशव प्रसाद मौर्य
चित्र
हर व्यक्ति को प्रत्येक दिन योग का अभ्यास करना चाहिए - दिनेश सिंह कुशवाहा
चित्र
भारत को विश्वगुरू बनाने के लिए आगे आए ब्राम्हण समाज-प्रो. द्विवेदी
चित्र